परिचय 

Ramesh Pokhriyal 'Nishank'

Nishank Blog

डॉ० रमेश पोखरियाल ‘निशंक’

कविता, कहानी, उपन्यास, पर्यटन, डायरी, तीर्थाटन, संस्मरण और व्यक्तित्व विकास जैसी विभिन्न विधाओं पर हिंदी साहित्य को पाँच दर्जन से अधिक उत्कृष्ट पुस्तकें देनेवाले डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ लेखन के साथ-साथ पिछले तीन दशक से राजनीति में भी सक्रिय हैं। इसके साथ ही वे गंगा तथा हिमालय के पर्यावरण संरक्षण और संवर्धन के लिए लगातार संघर्षरत हैं। डॉ. निशंक के साहित्य का अनुवाद अंग्रेजी, रूसी, फ्रेंच, क्रिओल, नेपाली, स्पेनिश, जर्मन आदि विदेशी भाषाओं सहित एक दर्जन से अधिक भारतीय भाषाओं में हुआ है। देश के कई विश्वविद्यालयों में उनके साहित्य पर शोध कार्य हुए और हो रहे हैं। देश एवं विदेश के अनेक विश्वविद्यालयों के पाठ्यक्रम में उनका साहित्य पढ़ाया जा रहा है। उत्कृष्ट साहित्य सृजन के लिए देश के चार राष्ट्रपतियों द्वारा राष्ट्रपति भवन में सम्मान, उत्कृष्ट साहित्य सृजन, गंगा एवं हिमालय के पर्यावरण संरक्षण-संवर्धन के लिए विश्व के एक दर्जन से अधिक देशों में सम्मान। देश के अनेक विश्वविद्यालयों, संस्थाओं, संगठनों और साहित्यिक संस्थाओं द्वारा समय-समय पर सम्मान एवं पुरस्कार। 
संप्रति: उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वर्तमान में हरिद्वार से लोकसभा सांसद तथा केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री।

अपनी जिज्ञासाओं तथा अपनी लेखन रुचि को आप सभी के सुझाव, निरंतर संवाद के लाभ से गतिमान रखने का प्रयास करना चाहता हूँ। अपने मित्रों तथा पाठकों द्वारा दिए सुझावों पर मैं, समय-समय पर अपने विचारों को ब्लॉग के रूप में आपसे साझा करने का भी प्रयास प्रारंभ कर रहा हूँ। इसी एक माध्यम से मैं, अपने पूर्व लेखों को भी संकलित कर आपके सुलभ अवलोकनार्थ  प्रस्तुत करता रहूंगा।
                                                                                                                                    रमेश पोखरियाल 'निशंक' 

बहुमूल्य सुझाव आमंत्रित है 

संपर्क करने के लिए धन्यवाद !